एईआरबी का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि भारत में आयनीकारक विकिरण तथा नाभिकीय ऊर्जा के कारण लोगों के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को किसी भी प्रकार का अवांछित जोखिम न हो ।

ई-लोरा (विकिरण अनुप्रयोगों के ई-लाइसेंसिंग)
मैं एक आवेदक हूँ
मैं रेडियोलाजिकल चिकित्‍सा व्‍यवसायिक हूँ
मैं एक मरीज हूँ
मैं एक आदाता / उत्पादक हूँ
मैं एक रेडियोग्राफर हूँ
संरक्षा से संबंधित किसी भी चिंताजनक बात की रिपोर्ट करें
आपातकालीन स्थिति में क्या करें
सार्वजनिक क्षेत्र में नाभिकीय अथवा विकिरणीय आपातकालीन घटना के लिए संपर्क करें
संरक्षा अनुसंधान कार्यक्रम

नवीनतम समाचार

27 मार्च 2019

एईआरबी ने 26 मार्च, 2019 को मुंबई के अणुशक्तिनगर के नियामक भवन में कैलिब्रेशन और रेडियोलॉजिकल प्रयोगशालाओं के परीक्षण के लिए विशेष बैठक की व्यवस्था की ।

18 मार्च 2019

14-15 मार्च 2019 के दौरान सेफ्टी रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसआरआई), एईआरबी द्वारा " रेडियोएक्टिव दूषण के लिए पर्यावरणीय बचाव रणनीतियों" पर दो दिवसीय थीम बैठक आयोजित की गई थी।  श्री जी नागेश्वर राव, अध्यक्ष एईआरबी ने थीम मीटिंग का उद्घाटन किया।

28 फरवरी, 2019

श्री दिनेश कुमार शुक्ला, विशिष्ट वैज्ञानिक और कार्यकारी निदेशक, एईआरबी को 1 मार्च, 2019 से प्रभावी या अगले आदेश तक, जो भी पहले हो, तक दो साल की अवधि के लिए एक्सटेंशन दिया गया है।

25 फरवरी, 2019

AERB के वैज्ञानिक अधिकारियों के लिए प्रबंधन विकास कार्यक्रम 18-22 फरवरी, 2019 को पुणे के यशवंतराव चव्हाण विकास अकादमी (YASHADA) में आयोजित किया गया था।

25 फरवरी, 2019

अध्यक्ष, एईआरबी ने 22 फरवरी, 2019 को विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अनुसंधान के लिए विगन फाउंडेशन (VFSTR- डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी), आंध्र प्रदेश के विग्नन फाउंडेशन के परिसर का दौरा किया।की।

विजिटर काउण्ट: 906679

Last updated date:

Color switch

 

अक्सर देखे गए

कार्यालय का पता

परमाणु ऊर्जा नियामक परिषद, नियामक भवन अणुशक्तिनगर,, मुंबई 400094, भारत,

कार्य का समय
9:15 से 17:45 – सोमवार से शुक्रवार

वर्ष के सार्वजनिक अवकाशों की सूची