एईआरबी का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि भारत में आयनीकारक विकिरण तथा नाभिकीय ऊर्जा के कारण लोगों के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को किसी भी प्रकार का अवांछित जोखिम न हो ।

ई-लोरा (विकिरण अनुप्रयोगों के ई-लाइसेंसिंग)
मैं एक आवेदक हूँ
मैं रेडियोलाजिकल चिकित्‍सा व्‍यवसायिक हूँ
मैं एक मरीज हूँ
मैं एक आदाता / उत्पादक हूँ
मैं एक रेडियोग्राफर हूँ
संरक्षा से संबंधित किसी भी चिंताजनक बात की रिपोर्ट करें
आपातकालीन स्थिति में क्या करें
सार्वजनिक क्षेत्र में नाभिकीय अथवा विकिरणीय आपातकालीन घटना के लिए संपर्क करें
संरक्षा अनुसंधान कार्यक्रम

नवीनतम समाचार

16 अगस्त 2019

अध्यक्ष, एईआरबी, ने 73 वें स्वतंत्रता दिवस 2019 के अवसर पर मुंबई के अन्नशक्ति नगर के नियामक भवन में राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

6 अगस्त 2019

परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड के पूर्वी क्षेत्रीय विनियामक केंद्र (ईआरआरसी) ने 30 जुलाई, 2019 को वीईसीसी-कोलकाता में नियोक्ता और नव पंजीकृत डायग्नोस्टिक रेडियोलॉजी संस्थानों के प्रतिनिधियों के लिए 'डायग्नोस्टिक रेडियोलॉजी सुविधाओं के लिए सुरक्षा और नियामक आवश्यकताओं‘ पर एक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया। ।

29 जुलाई 2019
एईआरबी ई-न्यूज़लेटर (अप्रैल से जून 2019) प्रकाशित किया गया है।
23 जुलाई, 2019

अध्यक्ष एईआरबी ने 19 जुलाई, 2019 को मन्नार थिरुमलाई नाइकर कॉलेज, मदुरै द्वारा आयोजित परमाणु ऊर्जा और इसकी सामाजिक आवश्यकताओं के शांतिपूर्ण उपयोग पर कैरियर मार्गदर्शन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में भाषण दिया।

17 जुलाई 2019

परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड (एईआरबी) , न्यूक्लियर फ्यूल कॉम्प्लेक्स (एनएफसी) के साथ संयुक्त रूप से 21-23 अगस्त, 2019 के दौरान हैदराबाद में 36 वें परमाणु ऊर्जा विभाग (डी ए ई ) सेफ्टी एंड ऑक्यूपेशनल हेल्थ प्रोफेशनल मीट का आयोजन कर रहा है।

विजिटर काउण्ट: 1313890

Last updated date:

Color switch

 

अक्सर देखे गए

कार्यालय का पता

परमाणु ऊर्जा नियामक परिषद, नियामक भवन अणुशक्तिनगर,, मुंबई 400094, भारत,

कार्य का समय
9:15 से 17:45 – सोमवार से शुक्रवार

वर्ष के सार्वजनिक अवकाशों की सूची