एईआरबी का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि भारत में आयनीकारक विकिरण तथा नाभिकीय ऊर्जा के कारण लोगों के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को किसी भी प्रकार का अवांछित जोखिम न हो ।

एईआरबी के कार्य

  • परमाणु, विकिरण और औद्योगिक सुरक्षा क्षेत्रों में सुरक्षा नीतियाँ विकसित करना।
  • विभिन्न प्रकार की परमाणु और विकिरण सुविधाओं के लिए स्थल चयन, डिजाइन, निर्माण, कमीशनन, प्रचालन और विकमीशनन के लिए सुरक्षा कोड, मार्गदर्शिकाएं और मानक विकसित करना।
  • परमाणु और विकिरण सुविधाओं की स्थापना हेतु उचित सुरक्षा समीक्षा और मूल्यांकन के बाद स्थल चयन, निर्माण, कमीशनन, प्रचालन और विकमीशनन के लिए संस्वीकृति प्रदान करना।
  • समीक्षा और मूल्यांकन, विनियामक निरीक्षण और प्रवर्तन प्रणाली के माध्यम से सहमति के सभी चरणों के दौरान एईआरबी द्वारा निर्धारित विनियामक आवश्यकताओं का अनुपालन सुनिश्चित करना।
  • व्यावसायिक श्रमिकों और लोगों के विकिरण के संपर्क की स्वीकार्य सीमाएं निर्धारित करना और रेडियोधर्मी पदार्थों के पर्यावरण रिलीज की स्वीकार्य सीमाओं को स्वीकार करना ।
  • परमाणु और विकिरण सुविधाओं के लिए आपातकालीन तैयारियों की योजना की समीक्षा ।
  • बड़े रेडियोधर्मी स्रोतों, विकिरणित ईंधन और फ्यूसियम सामग्री के परिवहन के लिए सुरक्षा समीक्षा |
  • परमाणु और विकिरण सुविधाओं के कर्मियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम, योग्यताएं और लाइसेंसिंग नीतियों की समीक्षा करें और सभी स्तरों पर सुरक्षा पहलुओं में कर्मियों के प्रशिक्षण के लिए पाठ्यक्रम निर्धारण ।
  • रेडियोलॉजिकल सुरक्षा महत्व के प्रमुख मुद्दों पर जनता को सूचित करने के लिए आवश्यक कदम उठाना ।
  • सुरक्षा के क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास प्रयासों को बढ़ावा देना।
  • सुरक्षा मामलों के संबंध में देश में और साथ ही विदेशों में सांविधिक निकायों के साथ संपर्क बनाए रखना।

विजिटर काउण्ट: 1249259

Last updated date:

Color switch

 

अक्सर देखे गए

कार्यालय का पता

परमाणु ऊर्जा नियामक परिषद, नियामक भवन अणुशक्तिनगर,, मुंबई 400094, भारत,

कार्य का समय
9:15 से 17:45 – सोमवार से शुक्रवार

वर्ष के सार्वजनिक अवकाशों की सूची