एईआरबी का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि भारत में आयनीकारक विकिरण तथा नाभिकीय ऊर्जा के कारण लोगों के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को किसी भी प्रकार का अवांछित जोखिम न हो ।

विकिरण संसाधन सुविधायें

All applications have to be processed through eLORA only

eLORA User Guidelines- Radiation Processing Facilities




विकिरण संसाधन सुविधायें दो प्रकार की है –

  • गामा आधिारित अर्थात रेडियोसक्रिय स्रोत आधारित गामा किरणन संसाधन सुविधा (GRAPF), तथा
  • त्‍वरक आधारित औद्योगिक त्‍वरक विकिरण संसाधन सुविधा (IARPF).

गामा आधारित संसाधन सुविधायें, खाद्य पदार्थों के परिरक्षण, स्‍वास्‍थ्‍य उत्‍पादों के निजर्मीकरण, लकड़ों के बहुलकीकरण, रबड़ के वल्‍कनीकरण जैसे कार्यों में प्रयोग की जाती हैं जहां उच्‍च तीव्रता के किरणन की आवश्‍यकता होती है। यहां पर जिन उच्‍च तीव्रता गामा विकिरण संसाधन सुविधाओं की चर्चा की गयी है, वे भूमि-स्थित अचल प्रकार की होती है। ये सुविधायें शुष्‍क स्रोत भंडारण या आर्द्र-स्रोत भंडारण प्रकार की होती हैं जिनमें लक्ष्‍य के विकिरण संसाधन के लिये सुचारू रूप से परिबद्ध कई GBq सक्रियता वाले रेडियोसक्रिय पदार्थ (सामान्‍यत : Co-60) का प्रयोग होता है।

त्‍वरक आधारित संसाधन सुविधाओं में फोटान व इलेक्‍ट्रान पुंजों का प्रयोग खाद्य पदार्थों, स्‍वास्‍थ्‍य उत्‍पादों के विकिरण संसाधन तथा केबलों के तिर्यक-बंधन में होता है।

खाद्य पदार्थों का विकिरण संसाधन अत्‍यंत दक्ष प्रक्रिया है जो कोई अवशेष नहीं छोड़ती। उत्‍पादों की सुगंध, रंग तथा गठन पहले जैसे बने रहते हैं। विकिरण संसाधन के कारण खाद्य पदार्थ में रासायनिक परिवर्तन इतना कम होता है कि यह पता लगाने के लिये परीक्षण करना बहुत कठिन है कि पदार्थ का विकिरण संसाधन किया गया है या नहीं। संसाधन के समय खाद्य पदार्थ में कोई द्रव नहीं डाला जाता तथा पदार्थ के प्राकृतिक रसों की हानि नहीं होती। समुचित पात्रों में कम या अधिक मात्रा में खाद्य पदार्थों का संसाधन किया जा सकता है।

खाद्य पदार्थों का संसाधन शीत प्रक्रिया है; अत: इसमें डिब्‍बा बंदी, शुष्‍कन तथा ताप पास्‍तुरीकरण की तुलना के पोषक तत्‍वों की हानि बहुत कम होती हैं। इस प्रक्रिया में कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन व वसा आदि बड़े पोषक तत्‍वों में कोई परिवर्तन नहीं होता।


मसालों का विकिरण संसाधन


विकिरण संसाधन से पूर्व तथा उसके पश्‍चात

 

खाद्य पदार्थों के विकिरण संसाधन के बारे में भ्रांतियां एवं तथ्‍य :

भ्रांति :: किरणित खाद्य पदार्थ रेडियोसक्रिय होता है।
तथ्‍य : नहीं, ऐसा खाद्य पदार्थ रेडियोसक्रिय नहीं होता क्‍योंकि उसमें केवल गामा किरणें, इलेक्‍ट्रान या एक्‍स-रे भेजी जाती हैं। उसमें कोई अन्‍य पदार्थ नहीं मिलाया जाता तथा प्रक्रिया में कोई रेडियोसक्रियता उत्‍पन्‍न या विमोचित नहीं होती।.

भ्रांति : विकिरण संसाधन सुविधा में स्रोत के कारण प्रगलन/विस्‍फोट हो सकता है।
तथ्‍य : इन सुविधाओं में श्रृंखला अभिक्रिया या क्रांतिकता होने की कोई संभावना नहीं है।

संरक्षा पहलू :

विकिरण संसाधन सुविधाओं में बाहरी विकिरण जोखि़म होता है। स्रोतों की तुलना में त्‍वरकों के प्रयोग का लाभ यह हे कि वे कार्य करने के समय ही विकिरण उत्‍पन्‍न करते हैं।

नियामक आवश्‍यकतायें

यदि विकिरण संसाधन सुविधा का प्रयोग खाद्य पदार्थ के संसाधन के लिये किया जा रहा है तो यह सुनिश्चित करने के लिये डोज़मिति की समीक्षा की जानी चाहिये कि खाद्य पदार्थों को परमाणु ऊर्जा (खाद्य एवं संबंधित पदार्थों का विकिरण संसाधन) नियम, 2012 के अंतर्गत निर्दिष्‍ट मात्रा में ही विकिरण डोज़ मिल रही है।

विकिरण संसाधन सुविधाओं के लिये संबंधित नियामक दस्‍तावेज़

विजिटर काउण्ट: 1472337

Last updated date:

अक्सर देखे गए

कार्यालय का पता

परमाणु ऊर्जा नियामक परिषद, नियामक भवन अणुशक्तिनगर,, मुंबई 400094, भारत,

कार्य का समय
9:15 से 17:45 – सोमवार से शुक्रवार

वर्ष के सार्वजनिक अवकाशों की सूची

Please publish modules in offcanvas position.